नींद की गोली क्या है? इसका इस्तेमाल, इसकी कितनी डोज़ सुरक्षित है

नींद की गोली कौन ले सकता है

नमस्कार दोस्तों, स्वागत है। आपका solution daddy प्लेटफार्म पर और आज हम बात करेंगे नींद की गोली या नारकोटिक्स ड्रग्स का हमारे जीवन में क्या महत्त्व है। और हम इसे कैसे इस्तेमाल कर सकते हैं। दोस्तों नींद की गोलियां ज्यादातर अनिद्रा या insomnia, depression, और पागल या  disturb मरीजों को एक रजिस्टर्ड डॉक्टर द्वारा prescribe (परमर्षित) की जाती है। मेडिकल शॉप बाला भी यह दवाएं सिर्फ डॉक्टर के परामर्श पर ही यह दवाएं देता है।

You can also read this article in English. just open your chrome browser and select translate Hindi to English.

नींद की गोलियां कब लें।

नींद की दवा लेने से पहले यह तय कर लें। की क्या आपको इसकी वाकई जरुरत है। अन्यथा की स्तथी में यह नुकसान भी कर सकती हैं। हाँ अगर आप अनिद्रा या डिप्रेशन के शिकार हैं। तो आपको एक रजिस्टर्ड डॉक्टर से सलाह लेनी चाहिए खुद से कोई भी दवा न लें। जब भी आपको डिप्रेशन या अनिद्रा होती है। तब आपको एक डॉक्टर के पास जाना होता है। जो आपकी पूरी हिस्ट्री अच्छे से लेते हैं। और आपसे बहुत सरे सवाल कर सकते है खास तौर से आपके लाइफ स्टाइल के वारे में। और भी सवाल कर सकते हैं। जैसे आप शराव तो नहीं पीते या आप धुम्रपान या और कोई नशा तो नहीं करते आपकी लाइफ में कोई गर्लफ्रेंड या बॉय फ्रेंड है या नहीं है। है तो कोई विवाद तो नहीं है। और भी बहुत तरह के सवाल कर सकते हैं। जिसके बेस पर एक डॉक्टर आपको परामर्श लिख कर देते हैं। जिसमे नारकोटिक्स की दवा हो भी सकती हैं। और नहीं भी। यदि आपके पर्चे में कोई ऐसी दवा नहीं है। तो मेडिकल वाला आपको वह दवा कभी नहीं दे सकता।

नींद की गोलियां कैसे काम करती हैं और इनके फायदे।

नींद की गोलियां या अन्य कोई नशीली दवा सीधे तौर पर सेंट्रल नर्वस सिस्टम को डिप्रेस करती हैं। और हमे नींद जैसी फीलिंग आने लगती है। इन गोलियों द्वारा आने बाली नींद को आप कृत्रिम नींद भी कह सकते हैं। जैसे ही आप कोई नींद की दवा खाते हैं। तो सबसे पहले वह पेट में जाकर घुलती है। और उसके बाद इसका पेट के द्वरा अब्सोर्पसन होता है। फिर हमारा खून इस दवा को हमारे पुरे शरीर में फैलता है। हमारे दिमाग में मौजूद नींद के रिसेप्टर को यह उत्तेजित करती है। जिससे हमें नींद आने लगती है। और यह नींद की दवा असर दिखाना शुरू कर देती है। जब इसका असर पूरा हो जाता है। तब यह हमारे मल मूत्र या पसीने के रास्ते इसके कंटेंट वाहर आते हैं। और इस दवा का असर धीरे धीरे समाप्त होने लगता है।

यदि आप अनिद्रा  के शिकार हैं। तो सबसे पहले आप अपनी दिनचर्या को बदले ज्यादा धूम्रपान या शराब का सेवन भी अनिद्रा लाता है। और तो और देर रात तक मोबाइल फोन या कंप्यूटर चलाने की आदत से भी अनिद्रा होती है। अब बात करते है। नींद की गोली के फायदे की।

चेतावनी– नींद की गोलियों को खुद से कभी न ले सबसे पहले चिकित्सक की सलाह लें।

  • यह गोलियां अनिद्रा (नींद न आना) में इस्तेमाल की जाती हैं।
  • इन गोलियों से डिप्रेशन दूर हो जाता है।
  • इन गोलियों का इस्तेमाल चिकित्सक पागल मरीजों को या दर्द से पीड़ित मरीजों को सुलाने के लिए भी करते हैं।

नींद की गोली कितनी सुरक्षित है

नींद की गोलियों के दुष्प्रभाव।

जिस तरह नींद की गोलियों के फायदे हैं। वैसे ही इससे हमारे शरीर में नुकसान भी होते हैं। बल्कि यूं कहा जाए जितने इसके फायदे हैं उससे कहीं ज्यादा इसके नुकसान हैं। इसीलिए इन गोलियों को हमेशा चिकित्सक की सलाह से लेना चाहिए।

  • नशे की गोलियों की लत लगना

ज्यादा लंबे समय तक इसका सेवन। लत का कारण बन जाता है। और मरीज एक नशेड़ी की तरह बर्ताव करने लगता है। जब तक उसको नशे की गोली नहीं मिलती वह बेचैन रहता है। इसलिए इन गोलियों को धीरे धीरे बंद किया जाता है। और तो और इसकी शुरुआत भी बहुत कम डोज से करनी पड़ती है। अन्यथा की स्तिथि में मरीज को छोटी मोटी डोज से न तो नींद आती और न ही वह अच्छे सो पता है।

  • स्मरण शक्ति का काम होना ( Memory Loss)

नशे की गोलियों या नींद की गोली का लंबे समय तक सेवन मनुष्य की स्मरण शक्ति कम कर देता है। जिससे मरीज की याद रखने और सोचने समझने में भी फर्क आ जाता है यहां तक ऐसे मरीज 5 मिनट पहले घटित समय तक को याद नहीं रख पाते।

  • हार्ट अटैक का खतरा

नशे की गोलियों का नियमित सेवन हार्ट अटैक का कारण भी बनता है। इसमें मरीज की अचनाक दिल का दौरा पड़ने से मौत तक हो सकती है।

नींद की गोलियों के प्रकार जिनको चिकित्सक ज्यादा लिखते हैं।

चेतावनी– नींद की गोली को खुद से कभी न ले सबसे पहले चिकित्सक की सलाह लें।
कुछ ऐसी नींद की गोलियां हैं जिनको चिकित्सक अक्सर लिखते हैं और यह हर मेडिकल शॉप पर आसानी से उपलब्ध हैं। जो निम्न लिखित हैं।

  • डायजीपाम
  • क्लोनाजीपाम
  • अल्प्राजोलाम
  • फेनोबार्बिटल
  • क्लोरडाईजीपोक्साइड
अच्छी नींद के लिए यह करें।

अच्छी नींद के लिए सबसे पहले आपको अपना लाइफ स्टाइल बदलना होगा जिसमे आप किस समय जागते हैं। किस समय खाना खाते हैं। और सबसे अहम बात किस समय समय सोने के लिए बिस्तर पर जाते हैं। आपको अपनी दिनचर्या को एक टाइम टेबल देना होगा। अच्छी नींद के लिए कुछ बिंदु निम्न लिखित हैं।

  • नियमित व्यायाम करें।
  • हो सके तो नियमित योगा करें।
  • धूम्रपान बिलकुल ना करें।
  • शराब का सेवन ना करें।
  • और किसी प्रकार का नशा जैसे अफीम गांझा का नशा न करें।
  • देर रात तक इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों का इस्तेमाल न करें।
निष्कर्ष

ऊपर दर्शाए गए लेख में नींद की गोली के बारे में बताया गया है। इस लेख में आपको नशे और नींद की गोलियों या दवा से संबंधित सारे सवालों के जवाब काफी हद तक मिल जायेंगे। एक बार मैं फिर बता दूं। इस लेख में कुछ नींद की दवाओं के नाम हैं। मेरी आपसे विनती है। इन दवाओं को बिना चिकित्सक के परामर्श के कभी भी न लें। और यदि आपका कोई प्रश्न या सुझाव हो तो हमसे संपर्क करें संपर्क करने की जानकारी contact us पेज पर मौजूद है। धन्यवाद।

यह भी पढ़े 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.