पेट के निचले हिस्से में दर्द के कारण क्या है, उपचार, लाभ, फायदे, जानकारी.

पेट के निचले हिस्से में दर्द के कारण क्या है जानें

पेट के निचले हिस्से में दर्द के कारण क्या है? आज जानेंगे इस लेख में। हैलो दोस्तों स्वागत है। आपका सलूशन डैडी प्लातेफ़ोर्म पर। और आज हम बात करेंगे पेट के निचले हिस्से में दर्द के कारण क्या है? और इसके उपचार या ट्रीटमेंट के बारे में दोस्तों पेट दर्द एक बहुत आम समस्या है। जो अक्सर लोगों में देखने को मिल जाती है।

यह समस्या पुरुष महिला बच्चे और बुजुर्ग किसी को भी हो सकती है। ज्यादातर पेट दर्द उपरी हिस्से में होता है। जो एक साधारण सी समस्या है। या इसको एक्यूट पेन भी कहते हैं। लेकिन पेट के निचले हिस्से में दर्द होना एक गंभीर बीमारी का कारण भी हो सकता है। और इसको क्रोनिक पेन कहते हैं। आज इस लेख में विस्तार जानेंगे पेट के निचले हिस्से में दर्द के कारण क्या है? ज्यदातर आम भाषा में पेट के निचले हिस्से के दर्द को पेडू का दर्द भी कहते हैं।

  • गुर्दे में पथरी के कारण दर्द। (Kidney Stone Pain)
  • महिलाओं में माहवारी के दौरान दर्द। (Menstrual Periods Pain)
  • गर्भ के कारण दर्द। (Pregnancy Pain Or Labour Pain)
  • आँतों में सूजन के कारण दर्द। (Ulcerative Colitis)
  • हर्निया के कारण दर्द। (Hernia Pain)
  • बच्चेदानी में गाँठ के कारण दर्द। (Ovarian Fibroid Or Ovarian Cyst)
  • गैस, एसिडिटी और अपच के कारण दर्द। (Gas, Acidity and Diarrhea)

उपरोक्त लिखित परेशानियाँ पेट के निचले हिस्से में दर्द के कारण क्या है जो सकती हैं।

गुर्दे में पथरी के कारण दर्द। (Kidney Stone Pain)

आज कल गुर्दे में पथरी होना बहुत आम हो गया है। गुर्दे में पथरी को हम रेनल कैलकुलाई (renal calculi) के नाम से भी जानते हैं। जिसे हम गुर्दे की पथरी कहते है। दरअसल वह मिनरल्स और साल्ट का एक ठोस मिश्रण होता है। जो हमारी किडनी में भरता रहता है। और एक पथरी जैसे आकार का रूप ले लेता है जो लोग पानी कम पीते हैं। या जरुरत पर ही पीते हैं। उन लोगों में किडनी स्टोन होने के ज्यादा चांसेस रहते हैं। गुर्दे में पथरी बनने के पीछे हमारे भोजन और दिनचर्या का भी बहुत बड़ा रोल है। जो कोई व्यक्ति मांसाहार का ज्यादा भक्षण करते हैं। उन लोगों में पथरी बनने का खतरा बना रहता है।

पेट के निचले हिस्से में दर्द के कारण क्या है kidney

जबतक पथरी शांत या नार्मल अवस्था में रहती है। तब तक मरीज की कोई शिकायत नहीं होती। गुर्दे की पथरी का जैसे ही मूवमेंट होता है। यह असहनीय दर्द पैदा करती है। जिसे हम पेट के निचले हिस्से में दर्द के कारण क्या है।

श्रेणी में रखते है पथरी का दर्द बहुत खतरनाक होता है। इस दर्द के कारण मरीज की उलटी होना भी शुरू हो जाती हैं। पथरी का दर्द पेट के निचले हिस्से से पेट के पीछे तक जाता है। यदि किसी मरीज को ऐसे लक्षण दिखाई दें। तो पेट दर्द का देसी उपचार न करें बल्कि तुरंत चिकित्सक से सलाह लें। चिकित्सक आपको Buscogast tablet uses in Hindi या Drotaverine tablet uses in Hindi जैसी दवाएं लिख सकते हैं।

सिर दर्द और आँखों में दर्द के कारण

महिलाओं में माहवारी के दौरान दर्द। (Menstrual Periods Pain)

एक स्वस्थ महिला में नियमित तौर पर हर महीने माहवारी होती है। जिसमें महिला में हर महीने पेल्विक से खून आता है। जो नियमित तारीख पर होता है। यदि यह गड़बड़ होता है। जैसे माहवारी समय से पहले होना या समय से बाद में होना तो यह दर्द पैदा करता है। जिसको पेट के निचले हिस्से में दर्द के कारण क्या है श्रेणी में शामिल किया जाता है।

इस दर्द को आम भाषा में पेडू का दर्द भी कहते हैं। यदि आपको ऐसे लक्षण दिखाई दें। तो पेट दर्द का देसी उपचार जैसे दर्द की जगह की सिकाई या अन्य काम न करें। तुरंत महिला चिकित्सक की सलाह लें। जो आपको पीरियड में पेट दर्द की टेबलेट। नाम जैसे Drotin M और Mefenamic Acid and Paracetamol Suspension और Tranexamic Acid and Mefenamic Acid Tablets दे सकती हैं। यह दवा बिना डॉक्टर की सलाह के न लें।

यह भी पढ़े- दांत दर्द में क्या करें 

पेट के निचले हिस्से में दर्द के कारण क्या है pregnancy

गर्भ के कारण दर्द। (Pregnancy Pain Or Labour Pain)

महिलाओं में गर्भावस्था के दौरान अक्सर पेट के निचले हिस्से में दर्द होता है जिसे लेबर पेन कहते हैं। यह दर्द ज्यादातर डिलीवरी के करीबी दिनों में होता है। कभी कभी यह दर्द पहले भी होने लगता है। जो बच्चे की मूवमेंट के कारण होता है। महिलाओं में अंडा फटने के बाद गर्भावस्था के लक्षण में भी यह दर्द होता है। इस दर्द को भी पेट के निचले हिस्से में दर्द के कारण क्या है। की श्रेणी में रखा गया है। यदि कभी भी ऐसा दर्द महसूस हो। तो तुरंत महिला चिकित्सक से संपर्क करें।

आँतों में सूजन के कारण दर्द। (Ulcerative Colitis)

आँतों में सूजन या Ulcerative Colitis में बड़ी आंत में Inflammation हो जाता है। ज्यादा लम्बे समय से हुई यह सूजन अल्सर का कारण बनती है। जिसमें शुरुआत में तो कम दर्द होता है। लेकिन बाद में बहुत तेज दर्द होता जो पेट के निचले हिस्से में होता है। इसके लिए पेट दर्द का देसी उपचार नहीं करने चाहिए। और एक रजिस्टर्ड चिकित्सक से सलाह लेनी चाहिए। इस बीमारी चिकित्सक Pantoprazole और अन्य दवाएं लिखते हैं। पेट के निचले हिस्से में दर्द के कारण क्या है आँतों का में सूजन एक कारण यह भी है।

फैटी लीवर कैसे होता है और इसका इलाज

पेट के निचले हिस्से में दर्द के कारण क्या है hernia

हर्निया के कारण दर्द। (Hernia Pain)

पेट की निचले हिस्से की मासपेशियाँ कमजोर होने के कारण अंदरूनी अंग बहार आना हर्निया कहलाता है। जो किसी गांठ के तौर पर दिखाई देता है। हर्निया किसी को भी हो सकता है। जो जन्म से शामिल है हर्निया में पेट के निचले हिस्से में दर्द होता है। इसलिए इसको भी पेट के निचले हिस्से में दर्द के कारण क्या है। की श्रेणी में रखा गया है इसका उपचार सिर्फ ऑपरेशन है।

बच्चेदानी में गाँठ के कारण दर्द। (Ovarian Fibroid Or Ovarian Cyst)

बच्चेदानी में गाँठ या सिस्ट होने से भी पेट दर्द होता है। जो नाभि के नीचे पेट दर्द के कारण और पेट निचले हिस्से में दर्द शुरू हो जाता है। इस दर्द को भी पेट के निचले हिस्से में दर्द के कारण क्या है श्रेणी में रखा गया है। यह बीमारी महिलाओं में होती है इसकी जांच के लिए अल्ट्रासाउंड किया जाता है। जिससे यह साबित हो जाता है कि यह दर्द किस कारण हो रहा है। इसके उपचार के लिए भी इसका ऑपरेशन किया जाता है। पेट के निचले हिस्से में दर्द के कारण क्या है श्रेणी में आता है।

गैस, एसिडिटी और अपच के कारण दर्द। (Gas, Acidity and Diarrhea)

जो व्यक्ति कुछ भी उल्टा सीधा या बाहर का खाना ज्यादा खाते हैं। यह समस्या उन लोगों में ज्यादा देखने को मिलती है। जिस कारण पेट दर्द शुरू हो जाता है। जो अक्सर पेट के उपरी हिस्से में होता है। लेकिन कभी कभी यह दर्द पेट के निचले हिस्से में भी होने लगता है। यदि आपको उपरोक्त लक्षण दिखाई दें। तो चिकित्सक से सलाह लें पेट दर्द की दवा लिख सकते हैं। यह दर्द भी  पेट के निचले हिस्से में दर्द के कारण क्या है श्रेणी में आता है।

निष्कर्ष

पेट के निचले हिस्से में दर्द के कारण क्या है। लोग अक्सर यह सवाल पूछते हैं। इसके जवाब के लिए इस लेख में विस्तार से उपरोक्त कारण बताये हैं। आशा करता हूँ। आपको यह लेख पसंद आया होगा। यदि आपका इस लेख से सम्बंधित कोई प्रश्न या सुझाव हो तो हमसे सम्पर्क करें। धन्यबाद।

यह भी पढ़ें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *