What is Monkeypox India मंकीपॉक्स क्या है? इससे कैसे बचें और इलाज?

MONKEYPOX INDIA VIRUS AND ITS SYMPTOMS

नमस्कार दोस्तों स्वागत है। आपका इस प्लेटफार्म सोलुशनडैडी ब्लॉग पर और आज हम बात करेंगे मंकिपोक्स के बारे में। आज इस लेख में जानेगे आखिर मंकिपोक्स क्या है। इसका इतिहास क्या है। मंकिपोक्स की उत्पत्ति कहा से हुई। और इसका इलाज क्या है। जानेंगे इसके लक्षण और संक्रमण के बारे में। दोस्तों अभी हमको कोरोना ने दुःख दिया। जिससे भारत को काफी नुकसान हुआ और लगभग तीन साल तक इसके संक्रमण के केस आते रहे। और आज भी कोरोना के केस आते हैं। जिस तरह से कोरोना ने पूरे विश्व में पैर पसारे थे। और जिससे बहुत जान माल का नुकसान हुआ था। और अब यह वायरस MONKEYPOX INDIA में आ गया है अभी तक बहार के देशों में था आज जानेंगे इसके बारे में  विस्तार से। इस लेख में।

You can also read this article in English. just open your chrome browser and select translate Hindi to English.

मंकीपॉक्स क्या है।और इसका इतिहास।

मंकीपॉक्स एक प्रकार की वायरस जनित बीमारी है। जिसको MPV, MPXV, और hMPXV भी कहते हैं। जो एक डबल स्ट्रेडेड DNA वायरस है। और यह POXVIRIDAE नामक वायरस फॅमिली से आता है। मंकीपॉक्स वायरस से शरीर में चेचक जैसे दाने निकलते हैं। यह बिलकुल SMALLPOX एंड CHICKENPOX के समान है। जिसको आम भाषा में छोटी माता और बड़ी माता कहा जाता है। यह बीमारी अब लगभग ख़त्म ही हो चुकी है। ठीक उसी तरह से MONKEYPOX INDIA में अपना कहर ढहा रहा है। मंकीपॉक्स को सबसे पहले 1958 में बंदरों में देखा गया था। जिसके आधार पर इसका नाम मंकीपॉक्स पड़ा। धीरे धीरे यह बीमारी मंकीपॉक्स  इंसानों में फ़ैल गई। और लगभग 1970 में इंसानों में इसके कई मरीज बढ़ गए थे। यह वायरस स्मालपॉक्स फॅमिली का ही है। और ठीक उसकी तरह ही संक्रमण करता है। मंकीपॉक्स द्वारा संक्रमित मरीज को ठीक होने में लगभग 14 से 21 दिन का समय लगता है। जो अपने निशान या स्कार छोड़ जाता है।

मंकीपॉक्स के लक्षण क्या हैं?

मंकीपॉक्स, स्माल पॉक्स के समान बीमारी है। तो उसी तरह इसके लक्षण भी मिलते जुलते हैं। इस बीमारी के होते ही मरीज की त्वचा पर पानी की गाठें बनना शुरू हो जाती है। यह बिलकुल जले हुए छाले के समान दिखती हैं। इसके साथ साथ और भी लक्षण दिखाई देते हैं। जो निम्नलिखित हैं MONKEYPOX INDIA में बहुत मरीज देखने को मिल रहे हैं। निम्नलिखित लक्षण होने पर तुरंत चिकित्सक की सलाह लें। 

  • सिरदर्द।
  • खांसी बुखार।
  • जाड़ा लगना।
  • बदन दर्द।
  • लाल या पानी के चकत्ते।
  • थकान महसूस होना।

MONKEYPOX INDIA PREVNT AND CURE

मंकीपॉक्स संक्रमण कैसे होता है।

मंकीपॉक्स संक्रमण एक व्यक्ति से दूसके व्यक्ति में फैलता है। जिसका संक्रमण बिलकुल कोरोना की तरह ही है। मंकीपॉक्स से संक्रमित व्यक्ति  को और स्वस्थ लोगों के बीच में नहीं जाना चाहिए। मंकीपॉक्स से संक्रमित व्यक्ति को अपने आप को एक अच्छे चिकित्सक को दिखाना चाहिए। जिन कारणों से संक्रमण का ज्यादा होने की सम्भावना होती है। वह निम्न लिखित है MONKEYPOX INDIA में बहुत तेजी से फ़ैल रहा है।

  • मंकीपॉक्स से संक्रमित व्यक्ति के द्वारा खासने से या छींकने से दूसरे व्यक्ति में यह संक्रमण हो जाता है।
  • मंकीपॉक्स से संक्रमित व्यक्ति के द्वारा इस्तेमाल किये गए वस्त्र या अन्य वस्तुओं से।
  • मंकीपॉक्स से संक्रमित व्यक्ति के संपर्क में आने से।
  • मंकीपॉक्स से संक्रमित व्यक्ति से हाथ मिलाने से।
  • मंकीपॉक्स से संक्रमित व्यक्ति के साथ शारीरिक सम्बन्ध बनाने से।
  • मंकीपॉक्स से संक्रमित व्यक्ति का बिस्तर इस्तेमाल करने से।
  • मंकीपॉक्स से संक्रमित व्यक्ति के गले मिलने से।
  • मंकीपॉक्स से संक्रमित व्यक्ति के फफोलों को छूने से।

मंकीपॉक्स से संक्रमित व्यक्ति क्या करें।

अगर किसी व्यक्ति को उपरोक्त लक्षण हों। तो वह तुरंत चिकित्सक की सलाह ले अगर व्यक्ति की जांच में में मंकीपॉक्स नामक बीमारी की पुष्टि हो जाती है। उसका टेस्ट मंकीपॉक्स धनात्मक आता है।तो उस संक्रमित व्यक्ति को निम्न बातों का ध्यान रखना चाहिए। MONKEYPOX INDIA में रोकने के लिए कुछ गाइडलाइन जरी की गई हैं।

  1. मंकीपॉक्स संक्रमित व्यक्ति को निरंतर हाथ धोते रहना चाहिए।
  2. मंकीपॉक्स संक्रमित व्यक्ति को सार्वजनिक स्थानों,विवाह या अन्य भीड़ भाड़ बाली जगहों पर जाने से परहेज करना चाहिए।
  3. मंकीपॉक्स संक्रमित व्यक्ति अपने को क्वारेंटिन करके रखे और बाहर निकले लोगों से मिलने में परहेज करे।
  4. मंकीपॉक्स संक्रमित व्यक्ति जब तक ठीक न हो जाए तब अपने परिवार से न मिले लोगों से हाथ मिलाने में परहेज करे।
  5. मंकीपॉक्स संक्रमित व्यक्ति को चाहिए निरंतर चिकत्सक की सलाह लें।
  6. मंकीपॉक्स संक्रमित व्यक्ति को चाहिए उसके वस्त्र व अन्य इस्तेमाल में ले जानी बाली चीजों को अपने तक ही रखे और उनको निरंतर बदलता रहे।
  7. मंकीपॉक्स संक्रमित व्यक्ति को चाहिए वह पर्सनल कूड़ेदान का इस्तेमाल करे अपनी सारी इस्तेमाल की हुई वस्तुएं बंद कूड़ेदान में डाले। और उसको मेडिकली डिस्पोज कराए।
  8. मंकीपॉक्स संक्रमित व्यक्ति तब ही बाहर आए जब उसकी रिपोर्ट ऋणात्मक (negative)आए।

मंकीपॉक्स का इलाज

मंकीपॉक्स संक्रमित व्यक्ति को चाहिए के वह रजिस्टर्ड चिकित्सक की सलाह ले। जैसा की उपरोक्त लेख में बताया गया है। मंकीपॉक्स 14 से 21 दिनों में ठीक हो जाता है। इसका कोई खास इलाज नहीं इसके लिए मंकीपॉक्स संक्रमित व्यक्ति को टीके लगवाने पड़ते हैं। जो एक मात्र इलाज का साधन हैं। मंकीपॉक्स संक्रमित व्यक्ति को निम्नलिखित टीके लगाए जाए है।

मंकीपॉक्स इलाज के लिए चेचक का एक टीका ACAM2000 लगाया जाता है।
JYNNEOSTM का एक टीका लगता है।

अगर आपको मंकीपॉक्स से संबंधित उपरोक्त लक्षण दिखाई दें। तो तुरंत चिकित्सक से मिलें।

निष्कर्ष

जैसा की आप जानते हैं। MONKEYPOX INDIA में बहुत तेजी से फ़ैल रहा है। इसके रोकथाम और इसकी जाकारी लिए यह लेख लिखा गया है। मेरा सभी लोगों से निवेदन हैं सावधान रहें सतर्क रहें। और लोगों तक मंकीपॉक्स के बारे में इनफार्मेशन पहुचने के लिए यह लेख शेयर करें। यदि आपका को प्रश्न या शुझाव हो तो हमसे निःसंकोच संपर्क करें। संपर्क करने की जानकारी contact us पेज पर उपलब्ध है। पाठकों से अनुरोध है हमारे सोशल मिडिया एकाउंट्स को लाइक और फॉलो करें धन्यबाद।

यह भी पढ़ें 

Leave a Reply

Your email address will not be published.