दाद की मेडिसिन क्रीम का नाम बताइए? 100% Strong दाद की दवा।

दाद खाज की मेडिसिन क्रीम

दाद की मेडिसिन क्रीम के बारे में बात करेंगे। नमस्कार दोस्तों। स्वागत है। आपका solutiondaddy प्लेटफार्म पर। और आज हम बात करेंगे मानव शरीर में होने बाली दाद, खाज, खुजली के बारे में। मानव शरीर कैसे फैलती है। दाद की मेडिसिन क्रीम और निम्नलिखित कंटेंट पर बात करेंगे।

  • दाद क्या है और कैसे होता है?
  • किस मौसम में दाद होने खतरा रहता है?
  • दाद खाज के लक्षण क्या हैं?
  • उपचार में इस्तेमाल की जाने बाली दाद की मेडिसिन क्रीम।
  • दाद के उपचार में इस्तेमाल की जाने बाली ओरल दवाएं।
  • दाद से बचाव का तरीका।
  • निष्कर्ष।

दाद क्या है और कैसे होता है?

दाद को हम अंग्रेजी में रिंगवर्म ( ringworm ) के नाम से जानते हैं। यह बीमारी ज्यादातर त्वचा या स्किन पर होती है। दाद होने का कारण फंगस या फफूंद होती है। लगभग 40 प्रकार की फफूंदों द्वारा यह दाद जैसी बीमारी पनपती है। साधारण तौर पर दाद इन तीन फंगस के द्वारा होता है। जिनमे  Trichophyton, Microsporum, and Epidermophyton शामिल हैं। इसके नाम के स्वरुप इस बीमारी में त्वचा पर गोल गोल सर्किल टाइप के लाल और सफ़ेद घेरे बन जाते हैं। इसी बजह से इसको ringworm कहते हैं। यह ringworm या दाद त्वचा को खुरदरा बना देते हैं। जिनमे अत्यंत तीव्र खुजली होती है। ज्यादा खुजाने से इन घेरों से खून भी आने लगता है। दाद करने बाले फफूंद हमारी त्वचा, शरीर और इस्तेमाल में ली जाने बाली तौलिया, बेड शीट में जीवित रहते हैं। अगर समय से इलाज न किया जाये तो दाद पूरे शरीर में फैलने लगते हैं। दाद की मेडिसिन क्रीम के द्वारा और ओरल टेबलेट के माध्यम से इसका उपचार किया जाता है। इन फफूंदों को जीवित रहने के लिए पानी या गीले होस्ट की जरुरुत होती है। चाहे वह होस्ट सजीव हो या निर्जीव।  

किस मौसम में दाद होने का खतरा रहता है?

दाद खाज जैसी बीमारी पर मौसम का बहुत बड़ा असर पड़ता है। बरसात या मानसून और गर्मी के मौसम में दाद खाज पनपने के सबसे ज्यादा चांस होते हैं। अभी आपने उपरोक्त हेडिंग में पढ़ा है। दाद बीमारी फंगस के द्वारा होती है। और फंगस को ग्रो या जीवित रहने के लिए पानी या गीलापन चाहिए। तो इसी वजह यह गर्मी और मानसून के मौसम में सबसे ज्यादा होते हैं। चूँकि गर्मी के मौसम हमारे शरीर से अत्यधिक पसीना आता है। जो हमारे शरीर को गीला रखता है। जिस कारण फफूंद को ग्रो करने के लये उचित बाताबरण मिल जाता है। और रही मानसून के मौसम की बात तो इस मौसम ज्यादा बारिश होने के कारण बातावरण में ह्यूमिडटी का लेवल बढ़ जाता है। जिस वजह से हर जगह गीलापन रहता है। और फंगस को ग्रो करने के लिए एक अनुकूल वातावरण मिल जाता है। यही वजह ringworm के सबसे ज्यादा मरीज इन्ही दो मौसम में मिलते हैं। इसके उपचार में इस्तेमाल होने बाली दाद की मेडिसिन क्रीम को हमेशा पानी से बचा के रखना चाहिए।

दाद की मेडिसिन क्रीम

दाद खाज के लक्षण क्या हैं?

दाद खाज की शुरुआत एक छोटे दाने से होती जिस पर ज्यादातर लोग ध्यान नहीं देते हैं। और फिर धीरे धीरे यह एक विकराल रूप धारण कर लेता है। और पूरे शरीर पर गोल गोल रिंग जैसी संरचनाएं देखने को मिलती हैं। दाद खाज खुजली में इस्तेमाल होने बाली दाद की मेडिसिन क्रीम दाद को फ़ैलाने बाले फफूंद को ख़त्म करती है। और इससे निजात दिलाती है। दाद खाज के लक्षण निम्न हैं।

  • खुजली होना।
  • लाल या ग्रे रंग के चकत्ते पड़ना।
  • खुरदरी त्वचा होना।
  • गोल या युनिफोर्मली पैच पड़ना।

उपचार में इस्तेमाल की जाने बाली दाद की मेडिसिन क्रीम।

दाद खाज या खुजली के उपचार में इस्तेमाल की जाने दवाओं में क्रीम या ऑइंटमेंट सबसे प्रमुख है। इन क्रीम्स या ऑइंटमेंट में एंटी फंगल दवाएं मिश्रित होती हैं। जिसके द्वारा दाद का इलाज किया जाता है। यह क्रीम आपको किसी भी मेडिकल पर आसानी से मी जाएँगी साधारण तौर पर यह दवाएं OTC मेडिसिन के अंतर्गत आती हैं। और इनका इस्तेमाल बाहरी त्वचा पर किया जाता है। इसलिए इन दवाओं के लिए चिकित्सक परामर्श की जरुरत नहीं होती है। और कोई मेडिकल बाला इनको आसानी से दे देता है। हाँ यदि दाद का संक्रमण ज्यादा फ़ैल गया है। तो फिर आपको एक रजिस्टर्ड चिकित्सक की सलाह लेनी चाहिए कुछ दाद की मेडिसिन क्रीम के नाम निम्न लिखित हैं।

  •  Luliconazole Cream or Ointment (लुलिकोनाजोल क्रीम)
  • Ofloxacin Ornidazole Cream (ओफ्लोक्सासिन ओरनिडाजोल क्रीम)
  • Itraconazole Cream (इटराकोनाजोल क्रीम)
  • Terbinafine Cream (टरबिनाफिन क्रीम)
  • Fourderm Cream (फॉरडर्म क्रीम)

दाद के उपचार में इस्तेमाल की जाने बाली ओरल दवाएं।

यदि दाद खाज आपके पूरे शरीर पर हो गए हैं। और क्रीम से भी फायदा नही मिला तो आपको एक चिकित्सक की सलाह लेनी चाहिए। चिकित्सक आपको ओरल (मुंह के द्वारा ली जाने बाली दवाएं) दवाएं परमर्षित कर सकते हैं। यह दवाएं भी एंटी फंगल केटेगरी में आती हैं। इन मेडिसिन को लेने के लिए आपको चिकित्सक द्वारा लिखा गया पर्चा दिखाना होता है। उसके बाद ही कोई मेडिकल बाला आपको यह दवा देगा अन्यथा आपको यह मेडिसिन मिलना मुश्किल हो जायेगा। दाद की मेडिसिन क्रीम से ओरल मेडिसिन बेहतर काम करती हैं। कुछ दाद की ओरल मेडिसिन निम्न हैं।

  • Itraconazole (इटराकोनाजोल)
  • Terbinafine (टरबिनाफिन)
  • Clotrimazole (क्लोट्रिमाजोल)
  • Fluconazole (फ्लूकोनाजोल)
  • Ketoconazole (कीटोकोनाजोल)
  • Amphotericin (ऐम्फोटेरीसिन)
दाद से बचाव का तरीका।

दाद से बचने के बहुत सारे तरीके हैं। यदि आपके साथ या आपके परिवार में से किसी व्यक्ति जो दाद हो गए हैं। तो उसके द्वारा इस्तेमाल की गई बस्तुओ और कपड़ों का इस्तेमाल न करें। जहाँ तक हो सके अपने बदन गीला न रखें। दाद के मरीज द्वारा इस्तेमाल किये गए कपड़ों का इस्तेमाल न करे। और उस मरीज को भी चाहिए की वह अपने वस्त्र पानी में उबाल कर या सैनिटाईज करके इस्तेमाल करे। और दाद के लक्षण दिखाई दें तो दाद की मेडिसिन क्रीम का इस्तेमाल करें या चिकित्सक से सलाह लें।

निष्कर्ष।

दाद खाज भारत में बहुत तेजी से पनप रहा है। खास तौर से गाँव कस्वे मन यह बीमारी बहुत देखने को मिल रही है। इसकी रोकथाम बहुत जरुरी है दोस्तों आशा करता हूँ। आप इस लेख के माध्यम से दाद खाज के बारे में विस्तार पूर्वक सीखने को मिला होगा। यदि आपका इस लेख से सम्बंधित कोई भी प्रश्न या सुझाव हो। तो निःसंकोच हमसे संपर्क करें। ज्यादा जानकारी के लिए हमारे सोशल मीडिया एकाउंट्स को लिखे और फॉलो करें।

यह भी पढ़ें।

2 Comments

    1. चेहरे के लिए आप कोई भी एंटीसेप्टिक क्रीम इस्तेमाल कर सकते हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published.