Ginger in Hindi. ठण्ड से बचने की 100% Final घरेलू औषधि।

Ginger in Hindi recipe

Ginger in Hindi की बात आज इस लेख में करेंगे। हैलो दोस्तों स्वागत है। आपने अदरक बाली चाय जरूर पी होगी। या किसी सब्जी के साथ अदरक का आनंद उठाया होगा। आज इस लेख में हम अदरक को विस्तार पूर्वक जानेंगे। अदरक के क्या फायदे हैं। किस प्रजाति की अदरक ख़ास होती है। एक कहाबत आपने जरूर सुनी होगी बन्दर क्या जाने अदरक का स्वाद तो आज उसी अदरक का पूर्ण विवरण देने की कोशिश रहेगी।

समानार्थी शब्द। (Ginger in Hindi)

(Ginger in Hindi) जिंजर को हिंदी में अदरक कहते हैं। और यही अदरक को अगर हम सुखा लें या इसकी पाउडर फॉर्म बना लें तो इसको सोंठ के नाम से जाना जाता है। अदरक को और भी नामों से जाना जाता है। जिसमें Zingiber, Zingiberis और सून्ठी नाम शामिल हैं। यदि आपको इसका और कोई नाम मालूम हो तो हमें कमेंट करके बताएं।

जैविक और भौगोलिक स्त्रोत। (Biological & Geographical Source)

अदरक ज्यादातर दक्षिणी पूर्वी एशिया में पाई जाती है। लेकिन इसका सबसे ज्यादा उत्पादन एशिया के कैरिबियन आइलैंड, अफ्रीका, ऑस्ट्रेलिया, मौरिसियस, जमैका, ताइवान और भारत में होता है। भारत में अदरक का उत्पादन अत्यधिक मात्रा में होता है। भारत अदरक का उत्पादन विश्व का 35 प्रतिशत से ज्यादा करता है। जिंजर प्लांट के नोड्स या राइजोम या जड़ को अदरक कहते हैं। जो जिंजिबर ओफ्फिसिनैलिस के नाम से जाना जाता है। अदरक का पौधा ज़िन्ज़िबरेसी फॅमिली से belong करता है। Ginger in Hindi में अदरक को दक्षिणी भारत में ज्यादा उगाया जाता है।

अदरक की खेती और संग्रह (cultivation & Collection)

भारत में लगभग पच्चीस हज़ार (25000) हेक्टर जमीन पर अदरक खेती की जाती है। और भारत हर साल लगभग पच्चीस हज़ार टन अदरक का उत्पादन करता है। जो विश्व का लगभग 35 प्रतिशत उतपादन करता है। भारत में इसकी खेती कई सारे राज्यों में की जाती है। जिनमे केरल, आसाम, हिमाचल प्रदेश, उड़ीसा, पश्चिम बंगाल, और कर्नाटक राज्य शामिल हैं। अदरक गर्म और नमी बाले या ज्यादा बारिश बाले वातावरण में उगती है। एक हेक्टर खेती के लिए 1200 से 1400 किलोग्राम अदरक के बीजित जड़ों की जरुरत होती है। अदरक की खेती के लिए सुपर फॉस्फेट, अमोनियम सलफेट और पोटाश जैसे उर्वरकों की जरूरत पड़ती है। अदरक की फसल लगभग छह महीने में टायर हो जाती है। अदरक की खेती के लिए रेतीली मिटटी, दोमट मिटटी और लाल मिटटी सबसे अच्छी होती है। अदरक के राइजोम को संग्रह करने का सही समय जून से शुरू होता है। एक बार जब अदरक की जड़ पूरी तरह से बन जाती है। उसके बाद अदरक को निकल कर छोटे छोटे बड्स या गांठों में तोड़ लिया जाता है। Ginger in Hindi में अदरक को सुखाकर स्टोर किया जाता है। और हरी ताजा अदरक सीधे बाजार में या मंदी में बिक जाती है।

Macroscopic Characters.

अदरक एक राइजोम या जड़ है। जो देखने में एक असमान संरचना लगती है। और अदरक कई सारे बड्स में बिखरी हुई होती है। यह बिलकुल हल्दी के समान प्रतीत होती है। अदरक का रंग उसकी खेती के आधार पर अलग अलग हो सकता है। यदि इसकी खेती लाल मिटटी में हुई है तो यह किनोरों पर लाल रंग और हल्के भूरे रंग की होती है। यदि इसकी खेती दोमट मिटटी और रेतीली मिटटी में हुई है। तो यह हलके भूरे रंग और सफ़ेद दिखाई देती है। अदरक की गंध बहुत तेज होती है। जिसे एरोमेटिक गंध कहते हैं। अदरक का स्वाद तीखा या पंजेंट होता है। इसके साइज़ और शेप की बात करें तो यह असमान होती है। लेकिन यह लगभग 5-15 X 1.5-6.5 सेंटीमीटर होती है। यदि अदरक को तोड़ते हैं तो यह दो भागों में आसानी से टूट जाती है। और यह फाइबर में टूटती है। Ginger in Hindi में हमने इसकी संरचना जानी।

Microscopic Characters.

माइक्रोस्कोप में देखने पर अदरक की कॉर्क में असमान कोशिकाओं की संरचनाएं दिखाई देती हैं। जो इसके कोर्टेक्स में मौजूद होती हैं। अदरक का कोर्टेक्स पैरनकईमल टिश्यू से बना होता है। जो वैस्कुलर बंडल के विल्कुल नजदीक होता है। वैस्कुलर बंडल ऐंडो डर्मिस वाल के अन्दर होता है। और इसमें फाइबर नहीं होते हैं। तैलीय कोशिकाएं और स्टार्च ग्रेन भी इसमें दिखाई देते हैं। इसके ऐंडो डर्मिस में स्टार्च नहीं होता है। अदरक को माइक्रोस्कोप से देखने पर यह काफी जटिल दिखाई देती है। Ginger in Hindi में हमने इसकी जटिल संरचना जानी।

Chemical Constituents. (रासायनिक घटक)

अदरक के गहन अध्यन से इसके बारे में काफी सूचनाएं मिलती हैं। अदरक में एक से चार प्रतिशत तक वोलाटाइल ऑयल्स होते हैं। और अदरक में 40 से 60 प्रतिशत तक स्टार्च की मात्रा होती है। यहीं इसमें 10 प्रतिशत तक वसा मौजूद होती है। अदरक में फाइबर और अकार्बनिक मटेरियल 5 से 6 प्रतिशत तक होता है। जिसमें 10 प्रतिशत तक की नमी मौजूद होती है। अदरक के तेल में monoterpene हाइड्रोकार्बन sesquiterpene हाइड्रोकार्बन और फिनाइल propanoids से मिलकर बना होता है। एरोमा और flavour अदरक के मुख्य गुण हैं। इसकी खुश्बू अदरक में मौजूद वोलाटाइल ऑयल्स की वजह से ही आती है। Ginger in Hindi में हमने इसके रासायनिक घटक जानें।

गुणवत्ता के मानक।

अदरक को अच्छी गुणवत्ता के लिए काफी कसौटियों से गुजरना पड़ता है। अच्छी गुणवत्ता बाली अदरक का एक्सट्रेक्ट पानी में घुलनशील होना चाहिए जो 10 प्रतिशत से कम न हो। अल्कोहल में इसकी घुलनशीलता 4.5 से कम नहीं होना चाहिए। इसको बर्न करने पर इसकी ऐश 6 प्रतिशत से ज्यादा नहीं होना चाहिए।

अदरक के उपयोग (Ginger in Hindi use)

अदरक बाज़ार में आसानी से उपलब्ध है। वैसे तो अदरक को चाय का स्वाद बढाने के लिए इस्तेमाल किया जाता है। अदरक का इस्तेमाल सब्जियों में भी किया जाता है। अदरक के और इस्तेमाल निम्नलिखित हैं।

  • अदरक का इस्तेमाल पेट से सम्बंधित बिमारियों में किया जाता है।
  • खुश्बू के लिए भी अदरक का इस्तेमाल किया जाता है।
  • अदरक का उपयोग कार्मिनेटिव की तरह भी किया जाता है।
  • अदरक के तेल का इस्तेमाल फ्लेवेरिंग एजेंट और स्टिमुलैंट में भी किया जाता है।
  • अदरक के चूर्ण का इस्तेमाल मोशन सिकनेस में किया जाता है।
  • अदरक हमारे पेट में मौजूद टोक्सिन को सोख लेती है।
  • अदरक को पैरासिटिक इन्फेक्शन में भी इस्तेमाल किया जाता है।

निष्कर्स। 

दोस्तों। इस लेख Ginger in Hindi. में हमने इसके इस्तेमाल जाने। इसके साथ साथ अदरक की खेती और रखरखाव को भी जाना। साथ ही साथ अदरक के गुणवत्ता के मानक भी जाने। यदि  इसके अलवा आपके के पास अदरक के बारे में और कोई जानकारी हो तो हमसे शेयर करें। आशा करता हूँ। यह लेख आपको अच्छा लगा होगा। इस लेख से सम्बंधित आपका कोई प्रश्न या सुझाव हो। तो निःसंकोच हमसे संपर्क करें। ज्यादा जानकारी के लिए हमारे सोशल मीडिया एकाउंट्स को लाइक और फॉलो करें। धन्यबाद।

यह भी जानें।

Leave a Reply

Your email address will not be published.