|

Azithromycin 500 uses in Hindi.100% Effective on Throat.

Azithromycin 500 uses in Hindi

हैलो दोस्तों स्वागत है आपका solution daddy प्लेटफ़ॉर्म पर और आज हम बात करेंगे एजिथ्रोमाइसिन (Azithromycin) ड्रग या दवाई के बारे में दोस्तों अपर थोरेसिक कैविटी (Thoracic Cavity) में हुए इन्फेक्शन को कम करने या संक्रमण का उपचार करने के लिए इस दवा एजिथ्रोमाइसिन (Azithromycin) का उपयोग किया जाता है और जानेंगे इस लेख में Azithromycin 500 uses in Hindi. Azithromycin 500 कैसे काम करती है यह दवा किस किस ब्रांड नाम से बाज़ार में मिलती है

Azithromycin क्या है? (What is Azithromycin)

Azithromycin एक मैक्रोलाईड (Macrolide) एंटीबायोटिक है जिसको 1991 में पेश किया गया था और इसी वर्ष इसको FDA के द्वारा स्वीकृत किया गया था Azithromycin का केमिकल फार्मूला C38H72N2O12 होता है इसका मॉलिक्यूलर बजन 748.98 होता है एजिथ्रोमाइसिन रचनात्मक रूप से अरिथ्रोमाइसिन (Erythromycin) की तरह होता है जिसमें 15 मेम्बरड रिंग्स होती हैं  एजिथ्रोमाइसिन बाज़ार में अलग अलग क्वांटिटी के साथ आती है जो एजिथ्रोमाइसिन 250 मिलीग्राम और एजिथ्रोमाइसिन 500 मिलीग्राम होती हैं एजिथ्रोमाइसिन 250 मिलीग्राम की एक स्ट्रिप में ज्यादातर 6 टेबलेट और 10 टेबलेट आती हैं जबकि एजिथ्रोमाइसिन 500 मिलीग्राम की स्ट्रिप में सिर्फ 3 टेबलेट ही आती हैं एजिथ्रोमाइसिन के सस्पेंशन भी आते हैं जो बच्चों के इस्तेमाल के लिए होते हैं Azithromycin 500 uses in Hindi में जानेंगे

Azithromycin किस श्रेणी में आती है? (Category Of Azithromycin)

एजिथ्रोमाइसिन को एंटी माइक्रोबियल की मैक्रोलाईड (Macrolide) एंटीबायोटिक की केटेगरी में रखा गया है इस श्रेणी अंतर्गत और भी दवाएं आती हैं जो Roxithromycin, Clarithromycin और Spiramycin हैं यह सारी दवाएं बैक्टीरिया के द्वारा हुए इन्फेक्शन को ख़त्म करती हैं Azithromycin को schedule H1 की श्रेणी में रखा गया है जिस कारण यह दवा चिकित्सक के परामर्स से ही मिलती है चूँकि इसके दुष्प्रभाव बहुत हैं और कॉण्ट्राइंडिकेशन भी हैं इस लिए इस दवा को बिना डॉक्टर के सलाह के नहीं लेना चाहिए Azithromycin 500 uses in Hindi की बात करें तो इसका इस्तेमाल जुकाम और इन्फ्लुएंजा में किया जाता है

Azithromycin 500 uses in Hindi ADME

Azithromycin कैसे काम करती है। (ADME of Azithromycin)

जैसा की आपने उपर जाना की Azithromycin एक एंटी माइक्रोबियल ड्रग है और यह ड्रग बैक्टीरियल प्रोटीन सिंथेसिस को रोकती है यह बैक्टीरिया के RNA से बंधती है बैक्टीरिया के संक्रमण को कम करती है यह दवा gram negative बैक्टीरिया पर अपना ज्यादा असर छोड़ती है Azithromycin 500 uses in Hindi की अगर बात करें तो 500 मिलीग्राम एक दिन की डोज होती है

  • अवशोषण (Absorption)- Azithromycin ड्रग को ओरल रूट और parenteral रूट  के माध्यम से दिया जाता है। जिसकी बायोअवैलिविलिटी या अवशोषण लगभग 37 प्रतिशत से 100 प्रतिशत होती है। Azithromycin का डिस्ट्रीब्यूशन 31.1 लीटर प्रति किलोग्राम होता है।  
  • वितरण (Distribution)- Azithromycin ड्रग एक बार ओरल रूट के माध्यम से लेने के बाद इसका अवशोषण होने लगता है और यह दवा हमारे रुधिर के माध्यम से पूरे शरीर में वितरण हो जाता है और फिर Azithromycin का एक्शन शुरू हो जात है इसकी की हाफ लाइफ बहुत ज्यादा 68 घंटा होती है
  • Mechanism of Action- और सभी macrolide एंटीबायोटिक Azithromycin ड्रग भी स्पेसिफिक RNA से बंधती हैं जो बैक्टीरियल सेलवाल के अन्दर होती हैं जिसका असर सीधे बैक्टीरियल प्रोटीन सिंथेसिस पर पड़ता है और यह बैक्टीरियल ग्रोथ को रोकती है Azithromycin ड्रग का मेटाबोलिज्म लीवर में होता है
  • निष्कासन (Route of Execration)- Azithromycin को ओरल रूट के और parenteral रूट के द्वारा लिया जाता है एक बार इसका मेटाबोलिज्म लीवर में होने के बाद इसका निष्काशन 24 घंटे में मूत्र के माध्यम से हो जाता है जिसमे Azithromycin का प्रकार 6 प्रतिशत बदलता है इसकी कुछ प्रतिशत या बची हुई ड्रग हमारे पसीने से बहार आती है। Azithromycin 500 uses in Hindi के उपयोग के बारे में जानेंगे

Azithromycin के इस्तेमाल। (Azithromycin 500 uses in Hindi)

Azithromycin को उस जगह इस्तेमाल किया जाता है। जहाँ पर यह पक्का हो जाये कि संक्रमण किस बैक्टीरिया के कारण हुआ है। unnecessary इस्तेमाल से Azithromycin resistance न हो जाये। इस दवा से इलाज के लिए इसकी एक recombed डोज है।

  1. COPD- COPD की फुल फॉर्म Chronic Obstructive Pulmonary Disease है जिसमे सां लेने में प्रॉब्लम होने लगती है जिसके लिए Haemophilus influenzaeMoraxella catarrhalis या Streptococcus pneumoniae बैक्टीरिया जिम्मेदार होते हैं यही बैक्टीरिया lung inflammation का कारण भी बनते हैं COPD बीमारी में हम Azithromycin का इस्तेमाल करते हैं। 
  2. Sinusitis (सिनुसाईटिस)- इस बीमारी में नाक के पास रेडनेस आ जाती है और नाक ब्लाक हो जाती है और यह Haemophilus influenzae, Moraxella catarrhalis बैक्टीरिया के संक्रमण के कारण होता है जिसके ट्रीटमेंट के लिए Azithromycin का इस्तेमाल करते हैं। 
  3. Pneumonia (निमोनिया)- Azithromycin का इस्तेमाल निमोनिया के संक्रमण को खत्म करने के लिए भी करते हैं। Chlamydophila pneumoniae बैक्टीरिया के कारण हमारे फेफड़ों में संक्रमण हो जाता है। जिस कारण साँस लेने में तकलीफ होने लगती है। 
  4. Pharyngitis or Tonsillitis (गले में सूजन या खारिस)- यह बीमारी ज्यादातर शर्दियों में होती है जिसमे गले में खारिस होने लगती है क्यूंकि टॉन्सिल्स में सूजन आ जाती है जिसका कारण Streptococcus pyogenes बैक्टीरिया है इसके ट्रीटमेंट के लिए भी Azithromycin का उपयोग किया जाता है।
  5. Urethritis And Cervicitis ( पेशाब में जलन और गर्भाशयग्रीवाशोथ)- पेशाब में जलन का कारण Chlamydia trachomatis बैक्टीरिया होता है जिससे गर्भाशयग्रीवाशोथ संक्रमण का भी कारण है इस संक्रमण को भी दूर करने के लिए भी Azithromycin का उपयोग किया जाता है।
  6.  Otitis Media, Cough And Sneeze (खांसी, जुकाम और ओटाइटिस मीडिया)- Azithromycin का उपयोग खांसी जुकाम बुखार के लिए भी किया जाता है। यह सारे Azithromycin 500 uses in Hindi.

Azithromycin 500 uses in Hindi adverse effect

दुष्प्रभाव। (Adverse Effects)

Azithromycin 500 का ज्यादा इस्तेमाल हमारे शरीर में कुछ दुष्प्रभाव भी डालता है जिसमें डायरिया होने का ज्यादा खतरा रहता है और इस वजह से पेट दर्द भी शुरू हो जाता है और इसका ज्यादा इस्तेमाल नौसिया एंड वोमिटिंग का कारण भी बनता है

Azithromycin के ब्रांड के नाम। (Brands name of Azithromycin)
  • Azax 500 (अजाक्स 500) Suspension And Azax 250 Tablet
  • azicip 500
  • azithral 500
  • zathrin 500

खुराक। (Dose)

वयस्कों में इसकी खुराक 500 मिलीग्राम प्रति दिन के हिसाब से ली जाती है जो 12 घंटे में 250 मिलीग्राम बनती है बच्चो में इसकी खुराक 15 मिलीग्राम प्रति किलोग्राम दी जाती है जो अलग बीमारी के हिसाब से अलग अलग होती है

निष्कर्ष। (Conclusion)

Azithromycin 500 एक मैक्रोलाईड एंटीबायोटिक है जो बैक्टीरियल संक्रमण को ख़त्म करती है दोस्तों कैसा लगा यह Azithromycin 500 uses in Hindi लेख हमें कमेंट करके बताएं इस लेख से सम्बंधित आपका कोई प्रश्न या सुझाव हो तो हमसे संपर्क करें धन्यबाद

यह भी पढ़ें। 

Leave a Reply

Your email address will not be published.